तनाव से राहत के लिए गतिविधियाँ – चलना सूची में सबसे ऊपर है
पैदल चलना

तनाव से राहत के लिए गतिविधियाँ – चलना सूची में सबसे ऊपर है

  • Post author:

कहते हैं कि तनाव से राहत के लिए व्यायाम सबसे अच्छी गतिविधियों में से एक है जो आप कर सकते हैं। और जितने भी व्यायाम आप कर सकते हैं, उनमें चलना सूची में सबसे ऊपर है।

रात के खाने के बाद अपने पति या पत्नी, या किसी दोस्त, या यहाँ तक कि अपने बच्चों के साथ अच्छी सैर करना, आराम करने और मौज-मस्ती करने का एक शानदार तरीका है।

सुनिश्चित करें कि आपके पास अच्छे समर्थन के साथ चलने वाले कुछ अच्छे जूते हैं और कुछ गैर-प्रतिबंधित कपड़े जैसे स्वेट पैंट और एक टी-शर्ट पहनें। अगर मौसम थोड़ा ठंडा है तो हर चीज के ऊपर हल्का जैकेट पहणे। यदि आप बहुत गर्म हो जाते हैं तो आप इसे उतार भी सकते हैं।

धीरे-धीरे शुरू करें, यदि आप चलने या व्यायाम करने के आदी नहीं हैं, तो बस अपने पड़ोस में ब्लॉक के चारों ओर पहली बार टहलें। ऐसा एक या दो सप्ताह तक करें जब तक कि आपके शरीर को इसकी आदत न हो जाए और फिर बाहर निकल जाएं और दो या तीन ब्लॉक करें। या फिर खुले ग्राउंड पर चले।

girl 3288623 1920

इसे हर दिन करते रहें या चीजों को थोड़ा मिलाएं और किसी स्थानीय पार्क या वन संरक्षण में जाएं और पगडंडियों पर चलें।

हो सकता है कि आप ऐसे क्षेत्र में रहते हों, जहां बाइक पथ या पैदल मार्ग है, जो शहर मे उन लोगों के लिए रखता है जो इसका उपयोग करना चाहते हैं। कभी-कभी वे मीलों तक जा सकते हैं और आपको कुछ उस क्षेत्र को देखने दे सकते हैं जहां आप रहते हैं।

प्रकृति में बाहर रहने का शरीर पर शांत प्रभाव पड़ता है इसलिए प्रकृति के संरक्षण के माध्यम से चलना तनाव से राहत के लिए सबसे अच्छी गतिविधियों में से एक है जो आप अपने लिए कर सकते हैं।

अपने जीवन में तनाव को दूर करना उतना ही जरूरी है जितना कि खाना-पीना। यदि आप इसे बढ़ने देते हैं तो यह आपके शरीर और समग्र स्वास्थ्य पर कुछ हानिकारक प्रभाव डाल सकता है।

सिरदर्द, नाराज़गी, अवसाद, क्रोध और बढ़ी हुई चिंता सभी बढ़े हुए तनाव के लक्षण हैं। यदि इन सभी को लंबे समय तक अनियंत्रित किया जाता है तो यह उच्च रक्तचाप जैसी और भी गंभीर चीजें पैदा कर सकता है।

love 3694475 1920 2

उच्च रक्तचाप स्ट्रोक और दिल के दौरे जैसी और भी गंभीर स्थितियों को जन्म दे सकता है। इसका डोमिनोज़ प्रभाव हो सकता है जहाँ एक चीज़ दूसरे की ओर ले जाती है और दूसरी तिसरी कि ओर।

व्यायाम का कोई भी रूप आपके द्वारा महसूस किए जाने वाले तनाव की मात्रा को कम करने में मदद करेगा, विशेष रूप से पहले कुछ समय के बाद आप इसे करते हैं और दर्द या कठोरता दूर हो जाती है। वर्कआउट के बाद आप ऊर्जावान महसूस करेंगे और आत्मविश्वास के साथ फिर से दुनिया का सामना करने में सक्षम होंगे।

मैंने आपको चलने के बारे में बताया क्योंकि शोध ने दिखाया है कि चलना सबसे अच्छा है और इसे करना आसान है। आपको बस इतना करना है कि उठो और इसे करना शुरू करो। पैदल चलने के लिए आपको जिम जाने की जरूरत नहीं है, लेकिन आप चाहें तो ऐसा कर सकते हैं।

पैदल चलना भी एक व्यायाम के ही बराबर है। जहां प्रात:काल टहलने से सम्पूर्ण शरीर पर एक खास असर पड़ता है वहीं शरीर में एक खास असर पड़ता है वहीं शरीर में हाथों, घुटनों एवं जंघाओं जैसे जोड़ों के दर्द से निजात भी दिलाता है। सुबह के समय घूमना हर लिहाज से स्वास्थ्य के लिए उत्तम होता है।

morning 3759860 1920 1

आश्चर्य की बात तो यह है कि पैदल चलने से बूढ़े भी जवान महसूस करते हैं क्योंकि ऐसा करने पर उनके उत्तकों की मरम्मत का कार्य भली-भांति सम्पन्न हो जाता है। इसीलिये यदि आप युवा दिखने की इच्छा को मन में रखते हैं तो अधिक से अधिक पैदल चलें। यकीनन स्वास्थ्य के लिए लाभकारी साबित होगा। टहलने से न केवल पाचन प्रणाली सही ढंग से काम करती है अपितु कब्ज से परेशान व्यक्ति को भी अवश्य ही लाभ पहुंचाता है। और तो और, टहलने से शारीरिक स्वास्थ्य उत्तम रहने के साथ-साथ उससे कहीं अधिक हमारे मानसिक स्वास्थ्य को फायदा होता है। गौरतलब है कि तन मन की थकान और तनाव को दूर करने हेतु सदियों से यह प्रचलन इस्तेमाल होता आ रहा है क्योंकि व्यक्ति के पैरों की संरचना दौड़ने की अपेक्षा ज्यादा चलने के लिए ही अति उपयुक्त है। दौड़ने से ज्यादा ऊर्जा खर्च होती है जबकि पैरों के अगले हिस्से मसलन पंजों पर चलने वाले एड़ी पर चलने वालों की तुलना में 53 प्रतिशत से 63 प्रतिशत ज्यादा ऊर्जा खर्च होती है। इतना ही नहीं, पैरों के अगले हिस्से यानी पंजों के बल चलते वक्त एड़ी पर चलने की अपेक्षा में टखने, घुटने, कूल्हे और पीठ की मुख्य मांसपेशियों की क्रियाशीलता काफी हद तक बढ़ जाती है। इसलिए कहते हैं कि दौड़ने की बजाय चलना ही बेहतर होता है। टहलते समय जो बात ध्यान में रखनी चाहिए वह यह है कि टहलते समय शारीरिक मुद्रा का विशेष स्मरण रखना जरूरी है अन्यथा अभीष्ठ लाभ नहीं मिलता। टहलते समय शरीर को बिल्कुल सीधा होना चाहिए तथा मुंह बंद होना चाहिए और सांस पूरी तरह नाक के मार्ग से ही लेना चाहिए। तभी लाभदायक साबित होगा। कोशिश करें कि फेफड़ों के बजाय पेट से सांस लें। इससे शरीर को अधिक आक्सीजन मिलती है जो दिमाग तक जाती है और इससे सोचने और समझने की क्षमता में खास बढ़ोतरी होती है। हालांकि पैदल कभी भी चल सकते हैं परन्तु विशेषज्ञों के अनुसार टहलने के लिए प्रात:कालीन और संध्या के समय को उपयुक्त माना जाता है क्योंकि उस समय शरीर से स्टेरायड हार्मोन अधिकाधिक निकलते हैं जो इंसान को सुखद अनुभव महसूस कराते हैं। सो, जब हम टहलने के लिए बाहर निकलते हैं तो सड़क व गलियों के टहलने के स्थान पर पेड़-पौधों के मध्य पार्क के बीचो बीच सैर करने जैसी आदतों को प्राथमिकता देनी चाहिए।

आप मूल रूप से कहीं भी चल सकते हैं। यदि आप ऐसी जगह पर रहते हैं जहां सर्दी है और कुछ साल के लिए बाहर घूमना बहुत ठंडा है, तो बहुत से लोग मौसम खराब होने पर स्थानीय जगह में घूमना पसंद करते हैं।

अपने आप पर एक एहसान करें, अपना ख्याल रखें, उठें और तनाव से राहत के लिए सबसे अच्छी गतिविधियों में से एक करें, टहलें।

Leave a Reply