काल सर्प दोष और वैदिक ज्योतिष (Positive)
काल सर्प दोष, योग, वैदिक, गुरु, मोर, राहु, केतु

काल सर्प दोष और वैदिक ज्योतिष (Positive)

  • Post author:

कालसर्प दोष

काल सर्प दोष, योग, वैदिक, गुरु, मोर, राहु, केतु

काल सर्प दोष आधुनिक भारतीय ज्योतिष का एक बहुत लोकप्रिय मुद्दा है लेकिन इस विषय पर प्रामाणिक जानकारी पाठकों के लिए उपलब्ध नहीं है और साथ ही उनकी कुंडली में सितारों के इस अशुभ संयोजन से पीड़ित व्यक्तियों को भी प्रकृति के इस अभिशाप से छुटकारा पाने के उपाय नहीं पता हैं। इस लेख में मैंने इस समस्या की मूल बातें और इस दोष से राहत पाने के कुछ सरल उपायों पर चर्चा की है। यह लेख भारतीय ज्योतिष के मजबूत आस्तिक के दिमाग से सभी भ्रमों को मिटा देगा।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक मनुष्य की कुंडली के आधार पर ही उसका भाग्य तय होता है। कुंडली में बन रहे कई ऐसे योग हैं जो व्यक्ति के विवाह से लेकर मृत्यु तक के योग बनाता है। इन्हीं योग में से एक है कालसर्प योग। कालसर्प योग का कुप्रभाव पड़ने से व्यक्ति को आर्थिक समस्या, दाम्पत्य जीवन में अनबन, यहां तक अकाल मृत्यु का भय भी होता है। इस योग के कारण जीवन में काफी संघर्ष करना पड़ता है। कुंडली में कालसर्प योग के प्रभाव से व्यक्ति को मानसिक कष्ट सहना पड़ता है। इसके साथ ही कई तरह की परेशानियां जातकों को सहना पड़ता है। यह योग हमेशा कष्ट कारक नहीं होते, कभी-कभी यह अनुकूल फल देते हैं और व्यक्ति को विश्वस्तर पर प्रसिद्ध बनाते हैं। आइए जानते हैं कालसर्प योग क्या है और इसके कितने प्रकार हैं और इनके दुष्प्रभाव से बचने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं।

काल सर्प दोष क्या है?

जब दो या दो से अधिक ग्रह एक स्थान पर संयोग करते हैं तो इसे योग (योग) कहते हैं। जब यह योग किसी व्यक्ति के जीवन में अशुभ परिणाम देता है तो हम उसे दोष कहते हैं।

किसी व्यक्ति की कुंडली में जब सभी ग्रह राहु (ड्रेगन हेड) और केतु (ड्रेगन टेल) के बीच होते हैं तो यह दोष उत्पन्न होता है। प्राचीन भारतीय ज्योतिष इस दोष पर मौन है और आधुनिक भारतीय ज्योतिषियों को अभी तक कुंडली में इस दोष के अस्तित्व और इस दोष के परिणामों को अंतिम रूप देना बाकी है। इस दोष में सभी ग्रह राहु और केतु द्वारा निगले जाते हैं और व्यक्ति परिस्थितियों की चपेट में है। पर्यावरण और वह जीवन में सफलता के लिए कुछ भी नहीं पाता है।

ज्योतिष के प्राचीन विद्वानों ने इस दोष को स्वीकार किया लेकिन अधिक विवरण उपलब्ध नहीं है। महर्षि (ऋषि) पाराशर, ऋषि वराहमिहिर, ऋषि भृगु आदि ने इस दोष को स्वीकार किया था। वास्तव में राहु और केतु को वैदिक ज्योतिष में छाया ग्रह माना जाता है। खगोलीय रूप से वे कक्षा में आरोही नोड और अवरोही नोड में दो नोड हैं। इसलिए वे एक व्यक्ति के जीवन में रहस्य पैदा करने में सक्षम हैं और व्यक्ति जीवन में कभी भी चीजों को धारण नहीं कर सकता है क्योंकि कोई भी छाया को कभी नहीं पकड़ सकता है।

काल सर्प दोष, योग, वैदिक, गुरु, मोर, राहु, केतु

इस दोष के परिणाम (संयोजन)

1 सदन की शांति भंग

2 कोई संतान नहीं

3 पति पत्नी के बीच अलगाव

4 पुरानी बीमारियां

5 दुर्घटनाएं

6 अवसाद

7 परेशान नींद, सपने

8 मनोवैज्ञानिक समस्याएं

9 छिपे हुए दुश्मन

10 पेशे में बदलाव

11 भारी अवांछित व्यय

12 जोरदार यात्रा

13 आत्महत्या की प्रवृत्ति

14 जीवन के प्रवचन में अनेक बाधाएँ

15 ऋण

इस दोष के प्रकार

इस योग के 12 मूल प्रकार हैं, यह असंख्य हो सकता है क्योंकि ये विभिन्न प्रकार के प्रभाव उत्पन्न करते हैं

उपचार (व्यक्तियों के स्वयं के जोखिम के अधीन)

पूजा और तंत्र की भारतीय अवधारणा के अनुसार यहां कुछ सरल उपाय दिए गए हैं। यह सलाह दी जाती है कि इन उपायों का पालन न करें, आंखों पर पट्टी बांधकर आवेदन करने से पहले ऋषी की सलाह लें

1. प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव की पूजा करें

    मंत्र का जाप करें – ओम नमः शिवाय प्रतिदिन 108 बार

    शिव लिंग पर थोड़ा सा शुद्ध दूध मिलाकर शुद्ध जल डालें

    (अर्थात् बेलनाकार पत्थर को शिवलिंग कहते हैं)

2 चंदन के चूर्ण का लेप प्रतिदिन सिर पर लगाएं

3 बुधवार की शाम या सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण या अमावस्या पर कार्बन ब्लैक (काजल) और सरसों का तेल लगाकर गहरे पानी में 4 किलो सीसा धातु फेंक दें।

4 मोर के पंख घर में रखना

5 रत्न बिल्ली की आंख और हैमसोनाइट को या तो पेंडेंट में या पांच धातुओं के सोने, चांदी से बने अंगूठियों में पहने हुए। जिप्सम, आयरन कॉपर्स।

6 या त्र्यंबकेश्वर जाकर कालसर्प दोष कि शांती करे।

काल सर्प दोष कहे जाने वाले इस श्राप के अशुभ प्रभावों से बचने के लिए अनेक उपाय हैं

काल सर्प दोष, योग, वैदिक, गुरु, मोर, राहु, केतु
qwickin.com

क्या यह दोष भी फायदेमंद है?

हाँ यह योग कई मामलों में लाभकारी है और यदि यह योग सकारात्मक परिणाम देने लगे तो उन व्यक्तियों के लिए आकाश की कोई सीमा नहीं है।

यह लेख किसी के भावनावो को परेशान करणा नही है। भारतीय जोतिष के नुसार ग्रहो कि स्तिथी नुसार आकलन किया गया है। आपको जो अच्छा लगे आप वो लीजिये बाकी छोड दिजीये।   

Leave a Reply