गौतम ऋषी ओर देवी गंगा का धरती पर अवतरण
Maa Ganga, Rushi Gautam

गौतम ऋषी ओर देवी गंगा का धरती पर अवतरण

  • Post author:

गौतम ऋषी – महान तपस्वी

प्राचीन काल में गौतम नामक एक ऋषी थे, जिनकी पत्नी का नाम अहिल्या था। ऋषी गौतम दक्षिण में स्थित ब्रह्म पर्वत पर हजार वर्षों में सिद्ध होने वाली तपस्या कर रहे थे। उस समय लगभग सौ वर्षों से वर्षा नहीं हुई थी, जिससे कारण सूखा पड़ा हुआ था। पीने के लिए जल भी उपलब्ध नहीं था। सारे वृक्ष-पौधे आदि सभी वनस्पतियां सूख चुकी थीं। उस समय आए इस संकट से मुक्ति दिलाने हेतु बहुत से ऋषि मुनियों ने समाधि ले ली थी। तब गौतम ऋषि ने इस वर्षा के संकट को दूर करने हेतु वर्षा के देव वरुण को प्रसन्न करने हेतु उनकी तपस्या करनी आरंभ की। गौतम ऋषि ने छः महीने तक वरुण देव की घोर तपस्या की, जिससे वरुण देवता प्रसन्न हुए और उन्होंने गौतम ऋषि को साक्षात दर्शन दिए। वरुण देव बोले- हे गौतम ऋषि! मैं आपकी उत्तम भक्तिभावना से की गई तपस्या से बहुत संतुष्ट हुआ हूं। मांगो, क्या वर मांगना चाहते हो? तब वरुण देव का प्रश्न सुनकर महर्षि गौतम बोले- हे वरुण देव! आप तो सर्वज्ञाता हैं। भगवन्! आप जानते ही हैं कि वर्षा न होने के कारण संसार के सभी चराचर प्राणी व्याकुल हैं। इसलिए सबकी परेशानियों एवं दुखों को दूर करने के लिए मैं चाहता हूं कि वर्षा हो जाए। महर्षि गौतम के वर को सुनकर वरुण देव बोले कि मैं तो इस जगत के ईश्वर कल्याणकारी भगवान शिव के अधीन हूं और उन्हीं की आज्ञा और प्रेरणा के फलस्वरूप कार्य करता हूं। इसलिए इस वरदान को तो सर्वेश्वर शिव ही दे सकते हैं। अतः आप मुझसे कुछ और मांग लें। तब महर्षि गौतम बोले- प्रभो! आप मुझे जलदान दीजिए। इससे बडा और कोई पुण्य नहीं है और इसे कोई नष्ट भी नहीं कर सकता। तब गौतम जी की विनती को स्वीकार करते हुए वरुण देव बोले कि आप एक गड्ढा खोदें। मैं उसे जल से भर दूंगा और उस गड्ढे का जल कभी भी खाली नहीं होगा और इसके लिए तुम्हारा नाम भी संसार में प्रसिद्ध हो जाएगा।

वरुण देव की आज्ञा मानते हुए महर्षि गौतम ने तुरंत एक हाथ लंबा और चौड़ा गड्ढा खोद दिया। तब वरुण देव ने उसे जल से भर दिया और महर्षि गौतम से बोले-हे महामुने! इस स्थान पर किए गए सभी कर्म, दान, हवन, देव पूजन, तपस्या, पितृ श्राद्ध आदि सब सफल होंगे। यह कहकर वरुण देव अंतर्धान हो गए। तब गौतम ऋषि बहुत प्रसन्न हो गए कि सबके संकटों को उन्होंने दूर कर दिया है। इसलिए कहते हैं कि संकट के समय बड़ों की शरण में जाने से दुखों से मुक्ति मिलती है।

इस प्रकार महर्षि गौतम इच्छित वर पाकर खुश हो एवं स्नान आदि नित्य कर्मों से निवृत्त होकर, जौ आदि अन्न पैदा करने लगे उस जल से सींचकर उन्होंने मुरझाए हुए वृक्षों एवं पौधों को पुनः लहलहा कर दिया। उस स्थान को छोड़कर चले गए सभी जीव पुनः लोट आए।

Qwickin.com images

महर्षि गौतम को गोहत्या का दोष

महर्षि गौतम ने अपने शिष्यों को कमण्डल में जल लाने के लिए भेजा। जब शिष्य जल लेने उस गड्ढे पर गए तो उस समय वहां कुछ ऋषि-पत्नियां जल भरने आई हुई थीं। उन्होंने गौतम ऋषि के शिष्यों को डांटकर बिना जल दिए ही वहां से भगा दिया। आश्रम जाकर शिष्यों ने सारी बातें गुरु पत्नी देवी अहिल्या को बता दीं। तब देवी अहिल्या स्वयं जल भरने गईं और जल लाकर अपने पति को दिया। उस दिन से स्वयं अहिल्या ही जल लेने जाने लगीं। एक दिन अन्य ऋषि- पत्नियों ने जान-बूझकर अहिल्या से लड़ना आरंभ कर दिया और अपने घर आकर अपने पतियों से अहिल्या की झूठी शिकायत कर दी कि वह हमें जल भरने देने से मना करती है और कहती है कि यह जल तो मेरे पति को वरदानस्वरूप वरुणदेव से प्राप्त हुआ है।

अपनी पत्नियों की बातें सुनकर ऋषियों को बहुत क्रोध आया। गौतम ऋषि को सबक सिखाने के लिए अन्य ऋषियों ने गणपति की आराधना आरंभ कर दी। उनके पूजन से प्रसन्न होकर गणपति प्रकट हुए और वर लेणे के लिए कहने लगे। तब ऋषि बोले- हे विघ्न विनाशक गणपति! हम चाहते हैं कि गौतम ऋषि यहां से आश्रम छोड़कर किसी दूसरे स्थान पर चले जाएं। उनके यह वचन सुनकर गणेश जी बोले गौतम ऋषि ने तो कोई अपराध नहीं किया है, फिर आप उनका बुरा क्यों चाहते हैं? आप कोई और वरदान मांग लीजिए परंतु जब ऋषि नहीं माने तो उनको इच्छित वरदान देकर गणेश जी वहां से अंतर्धान हो गए। गणेश जी ने अपना दिया वरदान सिद्ध करने के लिए एक गाय का रूप धारण किया और गौतम जी द्वारा लगाए गए जौ खाने उनके खेत में चली गई। जब महर्षि गौतम ने देखा कि वह गाय उनका खेत नष्ट कर रही है तो स्वयं एक तिनका हाथ में लेकर उसे बाहर निकालने लगे। उस तिनके से पीड़ित होकर गाय धरती पर गिरी और मर गई। गाय को मरा जानकर गौतम ऋषि बहुत दुखी हुए। वे अपनी पत्नी से कहने लगे कि शायद मुझसे कोई भारी भूल हो गई जिस कारण मेरे आराध्य भगवान शिव मुझसे नाराज हो गए हैं और मुझ पर गौहत्या का पाप लग गया है।

उसी समय वहां अन्य ऋषि भी आ गए, जो गौतम ऋषि से बैर रखते थे। उन्होंने महर्षि गौतम, उनकी पत्नी और शिष्यों को भला-बुरा कहकर वहां से निकल जाने को मजबूर किया तो वे सब उस स्थान को छोड़कर वहां से चलने लगे। उन्होंने उन ऋषियों से पूछा कि मेरे द्वारा की गई इस गौहत्या का क्या प्रायश्चित होगा? तब वे ऋषि बोले-पतित पावनी गंगा में स्नान करने से मनुष्य के सारे पाप धुल जाते हैं। इसलिए अपने द्वारा की गई गौहत्या के प्रायश्चित से मुक्त होने के लिए आप गंगा जी को प्रकट कर उसमें स्नान करें और भगवान शिव के पार्थिव लिंग की स्थापना कर उसका भक्तिपूर्वक विधि-विधान से पूजन करें। तभी आपके पाप धूल जायेंगे।

qwickin image 5

गौतमी गंगा का प्राकट्य

महर्षि गौतम देवी अहिल्या एवं अपने अन्य शिष्यों को साथ लेकर किसी अन्य जगह पर आश्रम बनाकर रहने लगे। सर्वप्रथम गौतम ऋषि ने ब्रह्मगिरि पर्वत की परिक्रमा की। फिर भगवान शिव के पार्थिव लिंग की स्थापना कर उसका पूजन करने लगे। पति-पत्नी की उत्तम आराधना एवं भक्तिभाव से प्रसन होकर भगवान शिव ने उन्हें दर्शन दिए। अपने आराध्य को अपने सामने पाकर गौतम ऋषि व अहिल्या बहुत प्रसन्न हुए और उनको प्रणाम कर उनकी स्तुति करने लगे। तब भगवान शिव बोले- हे महर्षे! हे देवी! मैं आपकी पूजा से प्रसन्न हूं । मांगिए, क्या वर मांगना चाहते हैं? भगवान शिव के वचन सुनकर ऋषि गौतम बोले-भगवन्! मुझ पर कृपा करके मुझे गौ हत्या के पाप से बचा लीजिए। तब शिवजी बोले-आपसे कोई अपराध नहीं हुआ है। वह सब तो उन दुष्ट दुराचारियों द्वारा रची गई माया थी। आप तो निर्दोष हैं यह सुनकर महर्षि के सारे दुख दूर हो गए, तब उन्होंने शिवजी से कहा कि भगवन् मुझ पर कृपा करके पतित पावनी गंगाजी को यहां प्रकट करें, जिससे सभी प्राणियों का कल्याण हो सके।

गौतम ऋषि की प्रार्थना सुनकर शिवजी ने उन्हें गंगाजल दिया। वही गंगाजल श्रीगंगाजी का स्त्री रूप बन गया। तब गौतम जी ने उन्हें प्रणाम कर उनकी स्तुति की। गौतम ऋषि बोले – हे मातेश्वरी! हे पतित पावनी गंगे। मैं आपको प्रणाम करता हूं। आप पापों का खंडन करने वाली एवं अपनी शरण में आए भक्तों को मुक्ति देने वाली हैं। मैं हाथ जोड़े आपकी शरण में आया हूं। आप मेरे पापों को नष्ट करके मुझे नरक में जाने से बचा दो। तब उनकी स्तुति से प्रसन्न होकर गंगाजी ने उनके पापों को अपने निर्मल जल से धो दिया। फिर वे वहां से जाने के लिए सर्वेश्वर शिव से आज्ञा मांगने लगीं।

तब शिवजी बोले-हे गंगे! आप पापों का नाश करने वाली हैं। इसलिए लोक कल्याण के लिए यहीं पृथ्वी पर विराजें। हे कल्याणी ! आपको कलियुग में अट्ठाईसवें मन्वंतर के समाप्त होने तक यहीं पृथ्वी लोक पर निवास करना होगा और सच्चे मन एवं भक्ति भावना से अपने जल में स्नान करने वाले श्रद्धालुओं के पापों को नष्ट करना होगा। कलियुग में पापों को नष्ट करने का यही एक साधन होगा। श्रद्धापूर्वक आपके दर्शन करने वालों के पापों का क्षय भी आप करेंगी।

यह सुनकर गंगाजी बोलीं-हे प्रभु! मैं तो सदा आपके अधीन हूं। आपकी आज्ञा मेरे लिए शिरोधार्य है परंतु मेरी आपसे यह प्रार्थना है कि आप माता पार्वती के साथ मेरे पास ही निवास करें ताकि मैं सदा की भांति आपके पास रहूं। संसार में मेरी कीर्ति हो। तब गंगाजी के वचन सुनकर कल्याणकारी भगवान शिव बोले-हे गंगे! तुम्हारी मनोकामना मैं अवश्य पूरी करूंगा। यह कहकर भगवान शिव वहां त्र्यंबकेश्वर नाम से ज्योतिर्मय रूप में स्थित हो गए। तभी से वो स्थान त्र्यंबकेश्वर जोतिर्लिंग के नाम से जाना जाने लगा। गंगा वहा पर गौतम ऋषी के नाम से प्रसिद्ध होकर गौतमी गंगा कह्लाई।

http redirection

Leave a Reply