हर काम मे दुसरो कि सलाह!

हर काम मे दुसरो कि सलाह!

  • Post author:

मकडी, चिंटी ओर जाला

ये कहाणी उन लोगो के लिये है, जो हर वक्त दुसरो कि सलाह मान लेते है. दुसरो की सलाह लेकर काम करते है. अपने मन से कोई काम नही करते ओर बाद मे पछताते है.

मकडी हमेशा अपना जाला बनाती है ताकी उस जाले मे किडे – मकोडे फस जाये. ऐसा हि जाला बनाने का काम एक दिन मकडी कर रही थी. उसके लिये मकड़ी उपयुक्त स्थान की तलाश में थी. वह चाहती थी कि उसका जाला ऐसे स्थान पर हो, जहाँ ढेर सारे कीड़े-मकोड़े और मक्खियाँ आकर फंसे. इस तरह वह मज़े से खाते-पीते और आराम करते अपना जीवन बिताना चाहती थी. उसे एक घर के कमरे का कोना पसंद आ गया और वह वहाँ जाला बनाने की तैयारी करने लगी. उसने जाला बुनना शुरू ही किया था कि वहाँ से गुजर रही एक बिल्ली उसे देख जोर-जोर से हँसने लगी. मकड़ी ने जब बिल्ली से उसके हंसने का कारण पूछा, तो बिल्ली बोली, मैं तुम्हारी बेवकूफ़ी पर हँस रही हूँ. तुम्हें दिखाई नहीं पड़ता कि ये स्थान कितना साफ़-सुथरा है.यहाँ न कीड़े-मकोड़े हैं, न ही मक्खियाँ. तुम्हारे जाले में कौन फंसेगा?” बिल्ली की बात सुनकर मकड़ी ने कमरे के उस कोने में जाला बनाने का विचार त्याग दिया और दूसरे स्थान की तलाश करने लगी.

उसने घर के बरामदे से लगी एक खिड़की देखी और वह वहाँ जाला बुनने लगी. उसने आधा जाला बुनकर तैयार कर लिया था, तभी एक चिड़िया वहाँ आई और उसका मज़ाक उड़ाने लगी, अरे, तुम्हारा दिमाग ख़राब हो गया है क्या, जो इस खिड़की पर जाला बुन रही हो. तेज हवा चलेगी और तुम्हारा जाला उड़ जायेगा.मकड़ी को चिड़िया की बात सही लगी. उसने तुरंत खिड़की पर जाला बुनना बंद किया और दूसरा स्थान ढूंढने लगी.

ढूंढते-ढूंढते उसकी नज़र एक पुरानी अलमारी पर पड़ी. उस अलमारी का दरवाज़ा थोड़ा खुला हुआ था. वह वहाँ जाकर जाला बुनने लगी. तभी एक चुहा वहाँ आया और उसे समझाते देते हुए बोला, इस स्थान पर जाला बनाना व्यर्थ है. यह अलमारी बहुत पुरानी हो चुकी है. कुछ ही दिनों में इसे बेच दिया जायेगा. तुम्हारी सारी मेहनत बेकार चली जायेगी. मकड़ी ने चुहे की समझाने पर अलमारी में जाला बनाना बंद कर दूसरे स्थान की ख़ोज करने लगी. लेकिन इन सबके बीच पूरा दिन निकल चुका था. वह थक गई थी और भूख-प्यास से उसका हाल बेहाल हो चुका था. अब उसमें इतनी हिम्मत नहीं थी कि वह जाला बना सके. थक-हार कर वह एक स्थान पर बैठ गई.

वहीं एक चींटी भी बैठी हुई थी. थकी-हारी मकड़ी को देख चींटी बोली, मैं तुम्हें सुबह से देख रही हूँ. तुम जाला बुनना शुरू करती हो और दूसरों की बातों में आकर उसे अधूरा छोड़ देती हो. जो दूसरों की बातों में आता है, उसका तुम्हारे जैसा ही हाल होता है. चींटी की बात सुनकर मकड़ी को अपनी गलती का अहसास हुआ और वह पछताने लगी. ओर आगे जाकर ऐसी गलती ना करणे कि शपथ ली.

सीख:–

अक्सर ऐसा होता है कि हम नया काम शुरू करते हैं और नकारात्मक मानसिकता के लोग आकर हमें हतोत्साहित करने लगते हैं. वे भविष्य की परेशानियाँ और समस्यायें गिनाकर हमारा हौसला तोड़ने की कोशिश करते हैं. कई बार हम उनकी बातों में आकर अपना काम उस स्थिति में छोड़ देते हैं, जब वह पूरा होने की कगार पर होता है और बाद में समय निकल जाने पर हम पछताते रह जाते हैं. आवश्यकता है कि जब भी हम कोई नया काम शुरू करें, तो पूर्ण सोच-विचार कर करें और उसके बाद आत्मविश्वास और दृढ़-निश्चय के साथ उस काम में जुट जायें. काम अवश्य पूरा होगा. जीवन में सफलता प्राप्त करनी है, तो लक्ष्य के प्रति ऐसा ही दृष्टिकोण रखना होगा. तभी लक्ष पुरा होगा.

This Post Has 6 Comments

  1. Amol कालबांधे

    खूप चांगला लेख आहे… Qwickin खूप चांगले लेख प्रदर्शित करतो.

  2. Jessezowly

    Я реализовываем туристические пакеты основных туроператоров некто-лайн. Я демонстрируем Для Вас в таком случае ведь наиболее, то сколько представляют клерки туристических агентств. Вам сможете самочки подобрать для себя пилигримство, что Для Вас нравится, познакомиться со данными также зарезервировать его. Опричь Того Вам зараз представляете всегда без исключения опять возникающие «горящие» предписания также Для Вас казаться не должен утрачивать собственное промежуток, прибывать во кабинет турфирмы, для того для зарезервировать его. Вам мгновенно откладываете путешествие в веб-сайте также ожидаете доказательства согласно телефонному аппарату.

    [url=https://fps-mo.ru]новости спорта спортивная[/url]
    [url=https://vk.com/modnailru]кисточки для маникюра[/url]

  3. EdgarAbast

    Blue Diamond and Yellow Diamond both act as judges for Steven s trial.
    The album is available for purchase everywhere.
    Eventually, the activities should become so ingrained they no longer seem like conscious thought.
    Set in the San Fernando Valley over 24 hours, the ensemble-casted film reflected the emotional desperation and personal traumas of many bruised characters – a disparate collection of misguided, sad and miserable souls plagued by fractured relationships.
    Also, what are some good hiding spots.

    http://dentfreecawanvanging.mulosatizootinafimenumdeli.co/

Leave a Reply