मन प्रबंधन

मन प्रबंधन

  • Post author:

अगर आप पांच सिद्धांतों का पालन करते हो तो, जीवन के सभी दुख, सभी समस्याएं, सभी कठनाई दूर हो जायेगी.

समस्या चाहे कितनी भी गंभीर क्यों न हो, तो उसे विस्मय में देखें.-

  • आज कोई नौकर दुकान पर नहीं आया, तो आज देखते हैं, उसके बिना क्या अडचने आती है.
  • नौकराणी आज घर नहीं आई, तो आज मजा आ जायेगा, घर के काम करते हुये.
  • आज पच्चीसवीं तारीख है, पैसा खत्म हो गया? तो अच्छा है, चलो अब पाँच या छह दिन के लिए खर्चा कम करेंगे.
  • वह मुझसे बिना किसी कारण के नाराज हो गई. वो ऐसा भी कर सकती है?
  • उसने मुझसे झगडा किया, आज मज़ा आयेगा,उसको मनाने का मौका मिलेगा.

देखिये, कोई भी समस्या चाहे कितनी भी भयानक क्यों न हो, इस प्रारूप में इसे डालने की कोशिश करें, आश्चर्यजनक रूप से, सभी समस्या की गंभीरता अचानक गायब हो जाती है, यदि जो है उसका स्वीकार किया जाता है तो निन्यानबे प्रतिशत चिंता से बच सकते हैं. मान लीजिए कि एक दांत बहोत जोरोसे दर्द कर रहा है, अब यहां एक तरीका अपना सकते है, अपनी आँखें बंद करें, उस दर्द वाले दांत पर पूरा ध्यान दें, महसूस करें कि उत्तेजना प्राप्त हो राही है, उस जगह पर अपने दिमाग को सौ प्रतिशत ध्यान दे और तीव्रता पर केंद्रित करें दर्द कम हो जाएगा,

 मजेदार बात यह है कि वास्तविक दर्द उतना नही था, जितना दर्द होता है.

मन में आने वाले विचार परेशान करते हैं, यदि विचार केद्रित करे तो दर्द टूट जाता है, तो चिंता दूर हो जाती है.

अतीत में घुटने टेकना बंद करो.-

खाली बैठे- बैठे आपके सिर में हजारो विचार चक्र शुरू हो जाता है,

  • अगर मैंने दस साल पहले अच्छी पढ़ाई की होती, तो मैं आज बहुत बड़ा अधिकारी होता.
  • सात साल पहले, मैं एक प्लॉट लेना चाहता था, लेकीन मैने वो सुनहरा मौका खो दिया.
  • मैं बहुत कम वेतन पर काम करने को तैयार हो गया, मुझे ऐसा नही करणा चाहिये था.
  • मेरे जीवन मे बहोत सारे मौके आये, मैने खो दिये.
  • मैने व्यवसाय लगाया था, डूब गया.
  • समारोह के दिन, उसने मुझसे बुरा-भला कहा.

जो भी हुआ, उसे भूतकाल में जाकर बदला नहीं जा सकता, अब यह खत्म हो गया है. केवल और केवल सोचने से,अतीत की ये सभी अच्छी और बुरी घटनाएं, बदल नही सकती. उन्हे भूल जाणा हि बेहतर है. उन्हे सोचने मे  आपकी कीमती ऊर्जा बर्बाद हो जाएगी.

यहाँ हर कोई अद्वितीय है.-

  • सबकी दुख की जड़ तुलना करणे में है, उनका पैकेज बारह लाख है, मैं उस स्थान पर कब पहुंचूंगा?
  • उनके पास एक इनोवा है, मेरे पास एक वैगन है! वे मेट्रो शहर में रहते हैं,वे कितना मजा करते हैं,नहीं तो हम?
  • वह कितनी सुंदर लग रही है।  स्लिमट्रीम! मैं थोड़ा अधिक वजन वाली हूं.
  • उसे सास द्वारा परेशान नहीं किया जा रहा है, वह कितनी खुश है.
  • वो पती का हर शब्द सुनती है, आप जानते हैं.
  • उसे नौकरी लगी, मुझे नही, आदि आदि ….

इस दुनिया में सब कुछ अनोखा है,

गुलाब देखने में सुंदर है, लेकिन क्या मोगरे के फुल का महत्व कम नही होता, इनकी खुशबू हि इनकी पहचान है.  क्या दोनो मे तुलना करना संभव है?  प्रत्येक फूल अद्वितीय है.

इसी तरह, हर फल की अपनी मिठास होती है, स्वाद, आम रस के लिये , चीकू स्वादिष्ट के लिये, तो तो क्या अनानास खराब होता है? तो क्या संतरा ओर मोसंबी ने इर्षा करना चाहिए?

क्या केले ने मेरी किस्मत खराब है इसके लिये रोना चाहिये क्या?  सेब-अनार ने एक साथ आत्महत्या कर लेनी चाहिए,क्या?

कुछ फल स्वादिष्ट होते हैं, कुछ में औषधीय गुण होते हैं, कुछ पानी से भरे होते हैं, कुछ सूखे होते हैं.

सबमे अलग अलग विशेषता है.

जैसा फल है ऐसेही आदमी का है.कोई तेज व्यवसायी है, कोई परिश्रमी है, कोई कलाकार है, कोई बोलकर दिल जीत लेता है, कोई प्यार कर रहा है, कोई अनुशासित है, कोई सफलता का भूखा है, कोई प्रेम के लिए आतुर है.

अब इस में वो बुरा है वो अच्छा है, तो इसमे दुखी क्यों होणा है. आप जानते हैं, इस दुनिया में साढ़े सात अरब लोग रहते हैं, और सभी के हाथ अलग-अलग हैं, हर किसी का चेहरा एक-दूसरे से अलग है, इसलिए इस दुनिया में हर व्यक्ति अद्वितीय है, आप भी.

mind

जीवन का उत्तर खोजें.-

जीवन, हमे भगवान से मिला एक अनमोल उपहार है, जीवन मे हमेशा खुश रहना है, जीवन मे उत्साह के साथ जीना है, जीवन मे भव्य सपने देखना है और उन सपनों को पूर्णता से जीना है,

ज़िन्दगी आपके चेहरे और दूसरों के चेहरों पर मुस्कान लाने के लिए है.

जीवन का हर पल मासूमियत से जिना होना है, मन में सारे अपराधबोध, अतीत-भविष्य, काल्पनिक जिम्मेदारियों के बोझ को फेंक देना है, सब कुछ दूर फेंक देना है, स्वतंत्र होना और शिष्टाचार होणा है, हर पल का सामना करना है, मासूमियत से.

तीन चीजें एक व्यक्ति को अधिक परेशान करती हैं, ये तीनों हर दुख की जड़ में हैं. तीन चीजें हैं जो एक व्यक्ति को अधिक पीड़ित बनाती हैं.

  • उम्मीदें,
  • अधूरे सपने,
  • लक्ष्य प्राप्त करने के बाद आने वाली शून्यता,

शायद आप, उसकी शर्ट मेरी शर्ट से सफेद कैसे है! उसी विचार मे रहते है.

वह कितना खुश है, वह कितना शांत है, उसका जीवन कितना आरामदायक है, ये मेरे पास क्यों नहीं है, इसी विचार मे हम उदास रहते है, दुखी रहते है.

कल्पना करें कि,

जब किसी की शादी नहीं होती, तो वह कितना परेशान है, जब वह उठता है, बैठता है, खाता है, सोता है, केवल एक जुनून है, शादी-शादी-शादी. अनजाने में, वही विचार, चिंतित रहना, उसकी आत्मा को परेशान करना शुरू कर देता है, उसे दुःख देता है, फिर हंसी गायब हो जाती है, मन शांत नहीं रहता, चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है. उसका जीवन निरस हो जाता है.

और मान लीजिए, एक दिन उसकी शादी हो जाती है, (हर कोई की होती है) तो अचानक जीवन का रोमांच समाप्त हो जाता है!  जीवन फिर से शुरू हुआ,  मैंने नौकरी के लिए आवेदन किया, और जब मुझे नौकरी मिली, तो कुछ ही वर्षों में, मैंने उस नौकरी से ऊब जाना शुरू कर दिया, एक तरह का खालीपन आ गया, हर वक्त मन मे नया विचार आता हि रहता है.

जीवन क्यों?  जीवन का पूरा आनंद लेने के लिए, जब यह उत्तर मन के आकाश में मिल जाएगा, तो बाकी के सारे प्रश्न गायप हो जायेंगे. मन शांत हो जायेगा.

जो सेवा करता है उसे आत्मिक संतुष्टि मिलती है.-

  • अगरबत्ती अपने आप हवा में ऊपर चली जाती है, लेकिन वातावरण में एक सुखद सुगंध फैला जाती है,
  • दीपक का प्रकाश स्वयं नष्ट हो जाता है, लेकिन प्रकाश घर को रोशन करता है.
  • पेड़ सूरज की चिलचिलाती गर्मी को समाप्त करता है, और सबको को छाया देता है,
  • जो घास, गाय को खाती है, लेकीन सबको पोषक, स्वादिष्ट दुध देती है,
  • सूरज,जहा पर पाणी है वहा का वाष्पीकरण करता है, जिससे बादल बनते हैं, वर्षा होती है. जहां पर्याप्त पानी नहीं होता है, उस क्षेत्र मे सूखा रहता है.

और इसीलिए ये सभी हमारी संस्कृति में पूजनीय हैं।

हम कुछ हासिल करने के लिए सुबह से शाम तक दौड़ते हैं, लेकिन असली संतुष्टि कहां है? दूसरों के लिए निःस्वार्थ रूप से कुछ करने में एक अलग संतुष्टि है, यह कहा जा सकता है कि जो लोग अपनी ताकत का उपयोग करते हैं, वे अपने आस-पास के लोगों, रिश्तेदारों, दोस्तों, यहां तक ​​कि अजनबियों को भी खुश करते हैं, वास्तव में जो लोग दुसरो कि मदत करते है उन्ही का जीवन सार्थक हैं. खुशिया बाटनें से खुशिया बढती है.

ये पाँच सूत्र एक साथ आते हैं, हमे खुशिया देणे के लिये.

इसे हि आकर्षण का नियम कहते है. (Law Of Attraction)

सभी के जीवन मे, मन की तह में जाकर खुशियाँ ढूंढना चाहिये.

जीवन को बोझ की तरह ना समजे. जीवन को जिना है.

आनंद के साथ, उत्साह के साथ.

Leave a Reply